Laxmi narayan

Laxmi narayan

ऊँ नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।। Om narayanaya vidmahe Vasudevaya dhemahi Tanno vishnu prachodayat.

Laxmi narayan

अक्षताश्च सुरश्रेष्ठ कुंकुमाक्ताः सुशोभिताः | मया निवेदिता भक्त्या गृहाण परमेश्वरि || ॐ महलक्ष्म्यै नमः | अक्षतान समर्पयामि ||   Akshataashch Surshreshth Kunkumaaktaah Sushobhitaah | Mayaa Niveditaa Bhaktyaa Grihaan Parmeshvari ||… Read More →

Laxmi narayan

१- वे *कर* ही क्या जो दीनों-दुखियों और पतितों को न उठा सकें, सदा अपकार करने में अपनी महानता समझते हो? २- वे *पैर* ही क्या जो सदा मदिरालय की… Read More →

Laxmi narayan

जब आप मंदिर नहीं जा पाए तो यह मत कहो कि वक्त नहीं मिला..! बल्कि यह सोचो कि… ऐसा कौन सा बुरा काम किया, जिसकी वजह से.. भगवान ने तुम्हें… Read More →

© 2018 God is one word. All rights reserved.